Bewafa Rahat Indori Shayari

Bewafa Rahat Indori Shayari
Bewafa Rahat Indori Shayari

मेरे चेहरे पे🔸 कफ़न ना डालो,
मुझे आदत है मुस्कुराने🔸 की,
मेरी लाश को🔸 ना दफ़नाओ,
मुझे उम्मीद है उस🔸 के आने की !

विश्वास बन के 🔸लोग ज़िन्दगी में आते है,
ख्वाब बन के आँखों में 🔸समा जाते है,
पहले यकीन 🔸दिलाते है की वो हमारे है,
फिर न जाने क्यों 🔸बदल जाते है !

सिर्फ एक दिल 🔸ही है जो बिना,
आराम किये सालों काम🔸 करता है,
इसे हमेशा🔸 खुश रखिये ,
चाहे ये आपका हो या 🔸आपके अपनों का !

ऐसी सर्दी है कि 🔸सूरज भी दुहाई मांगे
जो हो परदेस में वो किससे 🔸रज़ाई मांगे
…फकीरी पे तरस🔸 आता है
अपने हाकिम की फकीरी पे 🔸तरस आता है
जो गरीबों से 🔸पसीने की कमाई मांगे

Hi! I am Kamal Saini, a passionate writer and avid explorer of diverse topics ranging from technology to literature. With a keen eye for detail and a knack for storytelling, i crafts engaging and informative content that captivates readers.

Leave a Comment