Zindagi Shayari

Zindagi Shayari
Zindagi Shayari

सैर कर दुनिया 🔸की ग़ाफ़िल ज़िंदगानी फिर कहाँ
ज़िंदगी गर कुछ रही तो ये जवानी 🔸फिर कहाँ

क्यों डरें 🔸ज़िन्दगी में क्या होगा
कुछ न होगा तो 🔸तजुरबा होगा

बहुत पहले से🔸 उन क़दमों की आहट जान लेते हैं
तुझे ऐ ज़िंदगी हम दूर से 🔸पहचान लेते हैं

लाई है किस 🔸मक़ाम पे ये ज़िंदगी मुझे
महसूस हो रही है ख़ुद 🔸अपनी कमी मुझे

Hi! I am Kamal Saini, a passionate writer and avid explorer of diverse topics ranging from technology to literature. With a keen eye for detail and a knack for storytelling, i crafts engaging and informative content that captivates readers.

Leave a Comment